23.7 C
Dehradun
Wednesday, October 5, 2022
HomeTravelउत्तराखंड के ऐसे 5 मंदिर जहां प्रधानमंत्री से लेकर बॉलीवुड स्टार्स आते...

उत्तराखंड के ऐसे 5 मंदिर जहां प्रधानमंत्री से लेकर बॉलीवुड स्टार्स आते हैं अपनी मन्नत लेकर

कहते हैं ऋषि मुनियों ने सैकड़ों साल तपस्या करके उत्तराखंड को दिव्यभूमि बनाया। जिसका वैभव पाने के लिए श्रद्धालु मीलों की यात्रा करके अपने भगवान के दर्शन को आते हैं।

देवभूमि उत्तराखंड, जिसकी हवा में है गंगा आरती की सुगन्ध और शाम स्वयं में समेटे है ढेर सारी शीतलता। आज हम आपको उत्तराखंड के पांच ऐसे मंदिरों के बारे में बताएंगे जहाँ अपनी मन्नत लेकर प्रधानमंत्री से लेकर बॉलीवुड स्टार्स आते हैं। आइये जानते है इन मंदिरों के बारे में।

मुक्तेश्र्वर मंदिर।

मुक्तेश्र्वर मंदिर

यह बेहद खूबसूरत स्थान नैनीताल से लगभग 51 किलोमीटर की दूरी एवं समुद्र की सतह से 2286 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। अंग्रेजी दौर में बने खूबसूरत हिल स्टेशन मुक्तेश्वर को “मुक्ति के ईश्वर” , संसार की बुरी शक्तियों के संहारक “भगवान शिव का घर” कहा जाता है। मुक्तेश्वर में भगवान शिव का 10 वी सदी पूर्व कत्युरी राजाओं द्वारा अविश्वसनीय-सा केवल एक रात्री में बनाया गया भव्य “मुक्तेश्वर महादेव मंदिर” स्थित है। यह मंदिर भगवान शिव के भक्तों के लिए सबसे प्रिस स्थान माना जाता है। इस मंदिर में हर साल हजारों भक्त आशीर्वाद व दर्शन हेतु आते हैं।

नीम करौली बाबा मंदिर।

नीम करौली बाबा मंदिर।

नैनीताल से 38 किमी दूर भवाली के रास्ते में कैंची धाम का बड़ा ही प्रसिद्ध मंदिर और नीम करौली बाबा का आश्रम बना हुआ है। ये मंदिर लोगों की आस्था का केंद्र है। हाल ही में यह जगह तब कुछ ज्यादा ही सुर्ख़ियों में आई थी जब फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के दौरान इस जगह का जिक्र किया औऱ अपने यहां आने की बात बताई। नैनीताल के भवाली-अल्मोड़ा हाई-वे पर बने कैंची धाम मंदिर में हर साल देश और दुनिया से लाखों लोग पहुंचते हैं। यहां पर हनुमान जी का मंदिर है। आश्रम का नाम यहां के पुजारी स्वर्गीय नीम करौली बाबा के नाम पर पड़ा है।

नैना देवी मंदिर।

नैना देवी मंदिर

नैनादेवी मंदिर नैनीताल में स्थित है। ऐसी मान्यता है कि यहां देवी सती के नेत्र गिरे थे। लोगों की आस्था है कि यहां पहुंचने वालों की आंखों की बीमारियां दूर हो जाती हैं। यहां सती के शक्ति रूप की पूजा की जाती है। मंदिर में दो नेत्र हैं जो नैना देवी को दर्शाते हैं। शक्तिपीठ श्रीनयना देवी हिमाचल नहीं देश-विदेश के लोगों की आस्था का केंद्र है।यह 51 शक्ति पीठों में से एक है, जहां मां सती के अंग पृथ्वी पर गिरे थे।

केदारनाथ मंदिर

केदारनाथ मंदिर

हिन्दू धर्म में हिमालय की गोद में बसे केदारनाथ धाम को बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक माना गया है। हिन्दू पुराणों में साल के करीब छ: महीने हिम से आच्छादित रहने वाले इस पवित्र धाम को भगवान शिव का निवास स्थान बताया जाता है। ऐसा माना जाता है कि यहां भगवान शिव त्रिकोण शिवलिंग के रूप में हर समय विराजमान रहते हैं। यहां पांडवों को भगवान शिव ने साक्षात् दर्शन दिए थे। जिसके बाद पांडवों ने यहां इस धाम को स्थापित किया।

बद्रीनाथ मंदिर।

बद्रीनाथ मंदिर।

यह मंदिर उत्तराखंड के चमोली जनपद में अलकनन्दा नदी के तट पर स्थित है। कुछ ऐसे प्रमाण मिलते हैं जिससे यह कहा जा सकता है कि इस मंदिर का निर्माण 7वीं-9वीं सदी में हुआ था। मंदिर के आस-पास जो नगर बसा हुआ है उसे बद्रीनाथ ही कहा जाता है। इस मंदिर का संबंध आदि गुरु शंकराचार्य जी से है। बद्रीनाथ के धर्माधिकारी भुवनचंद उनियाल के मुताबिक शंकराचार्य जी ने देश में चार मठों की स्थापना की थी और पहला मठ ज्योर्तिमठ बनाया था।

माना जाता है कि ज्योतेश्वर महादेव मंदिर में आदि गुरु शंकराचार्यजी ने करीब 5 वर्षों तक तपस्या की थी। उस समय बद्रीनाथ धाम के कपाट बंद होने के बाद आदि गुरु शंकराचार्य जी हर साल छह माह इसी स्थान पर निवास करते थे।

Sunidhi Kashyap
सुनिधि वर्तमान में St Xavier's College से बीसीए कर रहीं हैं। पढ़ाई के साथ-साथ सुनिधि अपने खूबसूरत कलम से दुनिया में बदलाव लाने की हसरत भी रखती हैं।
RELATED ARTICLES

9 COMMENTS

  1. Y do Hindoos pray to the Limpdick Rama and The Gay Lover Hanooman ? dindooohindoo

    Rama TOLD HIS NEPALI RANDEE WIFE SEETA TO PROSTITUTE HERSELF – this is in the Valmiki Ramayana

    Chapter [Sarga] 115

    तद्गच्छ त्वानुजानेऽद्य यथेष्टं जनकात्मजे |
    एता दश दिशो भद्रे कार्यमस्ति न मे त्वया || ६-११५-१८

    “O Seetha! That is why, I am permitting you now. Go wherever you like. All these ten directions are open to you, my dear lady! There is no work to be done to me, by you.”

    तदद्य व्याहृतं भद्रे मयैतत् कृतबुद्धिना |
    लक्ष्मणे वाथ भरते कुरु बुद्धिं यथासुखम् || ६-११५-२२

    “O gracious lady! Therefore, this has been spoken by me today, with a resolved mind. Set you mind on Lakshmana or Bharata, as per your ease.”

    įatrughne vätha sugréve räkņase vä vibhéņaëe |
    niveįaya manaų séte yathä vä sukhamätmanaų || 6-115-23

    “O Seetha! Otherwise, set your mind either on Shatrughna or on Sugreeva or on Vibhishana the demon; or according to your own comfort.”

    AND HANOOMAN THE GANDOO WAS HIS GAY LOVER !

    HOW ELSE WOULD BANDAR HANOOMAN KNOW THAT RAMA HAD A SMALL LITTLE PENIS ? dindooohindoo

    Book V : Sundara Kanda – Book Of Beauty
    Chapter [Sarga] 35

    18.”He has three folds in the skin of his neck and belly. He is depressed at three places (viz. the middle of his soles, the lines on his soles and the nipples). He is undersized at four places (viz. the neck, membran virile, the back and the shanks). He is endowed with three spirals in the hair of his head.

    COGITO !

    AS PER RAMAYANA — THE HANOOMAN THE APE WAS GIVEN 16 SEX SLAVES BY BHARAT !

    Book VI : Yuddha Kanda – Book Of War
    Chapter [Sarga] 125

    43-45

    “O the gentle one! Are you a divine being or a human being, who have come here out of compassion? To you, who have given this agreeable news to me, I shall give in return, for the pleasant tidings, a hundred thousand cows, a hundred best villages, and for wives, sixteen golden complexioned virgin girls of a good conduct, decked with ear-rings, having beautiful noses and thighs, adorned with all kinds of jewels, with charming countenances as delightful as the moon and born in a noble family.”

    Y DID BHARAT GIVE 16 SEX SLAVES TO THE APE ?

    THE PAWAN PUTTAR BRAHMA CHARI !-

  2. I was more than happy to uncover this website. I wanted to thank you for ones time due to this wonderful read!! I definitely liked every bit of it and I have you saved to fav to see new things on your site.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments