25.4 C
Dehradun
Wednesday, June 29, 2022
HomeBlogउत्तराखंड का इतिहास और रोचक तथ्य

उत्तराखंड का इतिहास और रोचक तथ्य

उत्तराखंड राज्य का वातावरण बहुत ही खास है। सालभर लोग इस राज्य की अलग-अलग जगह को देखने के लिए आते रहते है। इस राज्य में कई सारे तीर्थस्थल भी है। और इसी वजह से भी इस राज्य को ‘देव भूमि’ नाम से भी जाना जाता है। कुछ ही साल पहले इस राज्य के नाम में भी बदलाव किया गया। कुछ लोग इस राज्य को ‘उत्तराखंड’ नाम से बुलाते है तो कुछ लोग इसे ‘उत्तरांचल’ नाम से जानते है।

उत्तराखंड राज्य का इतिहास।

उत्तरांचल का नाम केदारखंड, मानखंड और हिमवत जैसे पुराने हिन्दू ग्रंथ में भी पाया गया। यहापर कुषाण, कुदिन, कनिष्क, समुद्रगुप्त, पुरवास, कतुरी, पाल, चन्द्र, पवार और आखिरी में अंग्रेजो ने शासन किया था। इस स्थान पर बहुत सारे पवित्र तीर्थस्थल और मंदिर होने की वजह से भी इस स्थान को ‘देव भूमि’ कहा जाता है। इस पहाड़ी इलाके में पर्यटकों को देखने के लिए कई सारी जगह है। यहापर कई सारे सुन्दर पर्यटन स्थल देखने को मिलते है और यहापर हरिद्वार, ऋषिकेश, देहरादून, उत्तरकाशी, गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ जैसे प्रसिद्ध और पवित्र तीर्थस्थल है।

नए जिलों का निर्माण हुआ।

आजादी के बाद टिहरी की संपत्ति उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्य का हिस्सा बन गई और पूरा क्षेत्र आयुक्त कुमाऊं के नियंत्रण में आ गया। कुमाऊं मंडल के सुदूर सीमा क्षेत्र की संवेदनशीलता के कारण और चीन के साथ युद्ध की संभावना की पृष्ठभूमि में, गढ़वाल, टिहरी और अल्मोड़ा जिलों को विभाजित किया गया और 1960 में चमोली, उत्ताखाशी और पिथौरागढ़ के तीन नए जिले बनाए गए। लखनऊ में मुख्यालय के साथ उत्तराखंड डिवीजन में शामिल किए गए सभी तीन जिलों को 31 मार्च, 1974 तक भारत सरकार द्वारा वित्तपोषित किया जाता रहा। 1960 में ‘कमौन और उत्तराखंड जमींदारी उन्मूलन अधिनियम’ 1961 में पारित किया गया था। 1 दिसंबर 1968 को कुमाऊं मंडल का विभाजन हुआ और गढ़वाल को एक नया मंडल बनाया गया।

हरिद्वार जिला बनाने की मांग उठी।

1986 में कुंभ मेला उत्सव के दौरान भगदड़ के कारण 46 लोगों की मौत हो गई थी। सरकार ने घटना की न्यायिक जांच के आदेश दिए। उपरोक्त घटना की इस पृष्ठभूमि में हरिद्वार जिला बनाने की मांग प्रमुख रूप से उठी। तत्कालीन यू.पी. सरकार ने 28 दिसंबर 1988 को हरिद्वार जिला बनाया। 15 अप्रैल 1997 को मेरठ मंडल से सहारनपुर का एक नया मंडल बनाया गया। इस संभाग में मुजफ्फरनगर और हरिद्वार शामिल थे। 9 नवंबर 2000 को उत्तराखंड के निर्माण के बाद, जिला हरिद्वार गढ़वाल मंडल का एक हिस्सा बन गया।

कई परियोजनाओं को नया रूप।

वर्तमान में उत्तराखंड राज्य में दो संभाग और तेरह जिले हैं। नए राज्य उत्तराखंड में जनता की उम्मीदों पर खरा उतरने के लिए राजस्व विभाग के आधुनिकीकरण और उन्नयन के लिए कई परियोजनाएं शुरू की गईं। ‘खराब इमारतों और पुराने वाहनों वाले विभाग’ के रूप में इसकी पारंपरिक छवि को बदलने की आवश्यकता महसूस की गई और तदनुसार कार्यप्रणाली को अंतिम रूप दिया गया।

उत्तराखंड भारत का एक लोकप्रिय स्थल।

आज उत्तराखंड भारत का एक बहुत ही लोकप्रिय स्थल है जहां हिल स्टेशन के साथ-साथ कई सारे तीर्थ स्थल भी हैं, और इसी राज्य से हिन्दू धर्म में सबसे पवित्र और पावन मानी जाने वाली नदियों में से दो नदियां गंगा और यमुना का उद्गम स्थल भी है। जहां हर साल अलग-अलग जगहों से बहुत सारे पर्याटक घूमने आते हैं।

Shubham Jha
Shubham वर्तमान में पटना विश्वविद्यालय (Patna University) में स्नात्तकोत्तर के छात्र हैं। पढ़ाई के साथ-साथ शुभम अपनी लेखनी के माध्यम से दुनिया में बदलाव लाने की ख्वाहिश रखते हैं। इसके अलावे शुभम कॉलेज के गैर-शैक्षणिक क्रियाकलापों में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं।
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments